Thu. Apr 18th, 2024
दिवाली पर चित्रकूट के मंदाकिनी तट पर क्यों किया जाता

सतना न्यूज़ आज – आपका आज का स्रोत सतना शहर की खबर। हमारी टीम सतना नगर की ताज़ा और महत्वपूर्ण ख़बरों को प्रस्तुत करने के लिए समर्पित है।

आज, हम आपके साथ एक नई ख़बर साझा करना चाहते हैं Satna News Today

विकाश कुमार/चित्रकूट: धार्मिक नगरी चित्रकूट में दिवाली के त्योहार का एक अलग ही महत्व है. दिवाली उत्सव के दौरान चित्रकूट के मंदाकिनी तट पर लगने वाले पांच दिवसीय मेले में भाग लेने के लिए देश के कोने-कोने से लाखों श्रद्धालु आते हैं। मान्यता है कि लंका पर विजय प्राप्त कर अयोध्या लौटते समय श्रीराम ने ऋषि-मुनियों के साथ मंदाकिनी नदी में दीपदान किया था।

धर्म : अयोध्या की तरह ही चित्रकूट में भी दिवाली का त्योहार खास तरीके से मनाया जाता है। हर साल यहां धनतेरस से भाई दूज तक पांच दिवसीय उत्सव मनाया जाता है। इसमें शामिल होने के लिए देश के कोने-कोने से आए लाखों श्रद्धालु मंदाकिनी नदी में दीपदान कर खुशहाली का आशीर्वाद मांगते हैं। मान्यता है कि साढ़े 11 वर्ष का वनवास चित्रकूट में बिताने वाले भगवान श्रीराम आज भी यहां कण-कण में विद्यमान हैं। कामदगिरि के चारों द्वारों पर कामतानाथ स्वामी अपने प्रसाद स्वरूप विराजमान हैं। लंका विजय के बाद भगवान ने ऋषि-मुनियों के साथ मंदाकिनी नदी में दीपक जलाकर सभी के प्रति आभार व्यक्त किया और फिर अयोध्या चले गये।

दिवाली पर इन जीवों का दिखना क्यों शुभ माना जाता है?

सम्बंधित खबर

यहां का रोशनी का त्योहार खास होता है

भरत मंदिर के महंत दिव्य जीवनदास ने बताया कि मान्यता के अनुसार आज भी भगवान श्रीराम दीपावली पर चित्रकूट की मंदाकिनी में दीप दान करते हैं। यहां दूर-दूर से भक्त भगवान राम के साथ दीपदान की इच्छा लेकर आते हैं। दिवाली के दौरान लगने वाला पांच दिवसीय दीपदान मेला यहां का सबसे बड़ा आयोजन माना जाता है। जिसमें 20 से 25 लाख श्रद्धालु आते हैं। धनतेरस से दूज तक लगने वाले मेले में दीपदान का क्रम चलता रहता है। उन्होंने बताया कि ‘चित्रकूट बरसे नित-दिन, प्रभु सिया लखन सहित’ रामचरित मानस की यह चौपाई तपोभूमि के महत्व को बताने के लिए काफी है। भगवान पूरे दिन यहीं रहते हैं। ऐसे में मंदाकिनी में दीपदान करने से उनका सानिध्य प्राप्त होता है।

.

हम निरंतर नवीनतम और महत्वपूर्ण ख़बरों को आपके सामने पेश करने के लिए काम कर रहे हैं, इसलिए हमारी वेबसाइट पर और भी ख़बरों के लिए बने रहें। हमारे समुदाय का हिस्सा बनने के लिए धन्यवाद!
Satna News Today

#दवल #पर #चतरकट #क #मदकन #तट #पर #कय #कय #जत #ह #दपदन #बड़ #खस #ह #इसक #महतव #News18 #हद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *